इटली से आई दुनिया को चौंकाने वाली रिपोर्ट, कोरोना वायरस पर हुआ ये खुलासा

रोमः कोरोना वायरस कहां से आया? इस बात को लेकर अब तक कोई सटीक तथ्य सामने नहीं आए हैं। कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि ये वायरस चीन के वेट मार्केट (जानवरों के मीट का बाजार) से फैला है तो कुछ का कहना है कि ये चीन की प्रयोगशाला से आया है, हालांकि लगभग पूरी दुनिया इस बात पर सहमत है कि ये वायरस चीन में ही जन्मा है। इन सबके बीच इटली की एक नई स्टडी चौंकाने वाली है। स्टडी में कहा गया है कि वहां कोरोना वायरस के शुरूआती मामले चीन से नहीं आए थे। ये स्टडी मिलान विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कार्लो फेडेरिको पेर्नो के नेतृत्व में की गई थी। शोधकर्ताओं ने अपने रिसर्च के लिए फरवरी और अप्रैल के बीच लोम्बार्डी क्षेत्र के Covid-19 मरीजों के 300 से अधिक ब्लड सैंपल एकत्र किए और उनके जीन में बदलाव से वायरल स्ट्रेन की उत्पत्ति का पता लगाया।

चीन की सभी उड़ानों पर रोक और वहां की यात्रा पर प्रतिबंध लगाने वाला इटली पहला देश था लेकिन शोधकर्ताओं के अनुसार सैंपल लिए गए मरीजों के जीनोम सिक्वेंस से पता चला कि इस ट्रांसमिशन श्रृंखला में चीन सीधे तौर पर शामिल नहीं था. इटली का लोम्बार्डी सबसे समृद्ध और कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में से एक है। चीन के शोधकर्ताओं नें जनवरी के शुरूआत में ही Sars-CoV-2 को पृथक कर उसे अलग श्रेणी में डाल दिया था. शोधकर्ताओं का कहना है कि 20 फरवरी को लोम्बार्डी के स्वास्थ्य अधिकारियों ने यहां स्थानीय संक्रमण के पहले मामले की पुष्टि की थी, लेकिन कम्युनिटी ट्रांसमिशन इससे पहले होना ही शुरू हो गया था।

Leave a Reply