कारगिल युद्ध: जब भारतीय सेना ने पाकिस्तान के छुड़ाए थे पसीने

नई दिल्ली: साल 1999 को भारतीय सेना ने पाकिस्तान को युद्ध में हराकर कारगिल में तिरंगा फहराया था। आज कारगिल युद्ध के 21 साल पूरे हो चुके हैं। तब से हर साल इस दिन को कारगिल विजय दिवस के तौर पर मनाया जाता है। 21 साल पहले पहले 26 जुलाई 1999 को ही भारतीय सेना ने पाकिस्तान को कारगिल की पहाड़ियों से मार भगाया था।

1998 की सर्दियों में ही कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर पाकिस्‍तानी घुसपैठियों ने कब्‍जा कर लिया था। 1999 की गर्मियों की शुरुआत में जब सेना को पता चला तो सेना ने उनके खिलाफ ऑपरेशन विजय चलाया। करीब 18 हजार फीट की ऊंचाई पर कारगिल में लड़ी गई इस जंग में 527 भारतीय जवान शहीद हुए थे और 1363 जवान बुरी तरह घायल हुए थे। कारगिल युद्ध में भारतीय सैनिकों ने अपनी जान की बाजी लगाते हुए पाकिस्तान सेना से लोहा लिया था। कारगिल युद्ध भारत के लिए आन-बान और शान की लड़ाई थी। जिसमें हर एक सैनिक ने पाकिस्तान को भारत के सामने घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था। पाकिस्तान ये मानने को तैयार ही नहीं था उसके सैनिकों ने भारतीय सीमा में प्रवेश किया है।

वहीं दूसरी ओर हथियारों से लैस पाकिस्तानी सैनिक वहां चौकियां तक बना चुके थे। लेकिन भारतीय सेना भी कहां हार मानने वाली थी। जिन चोटियों पर कब्जा किया हुआ था, वहां से पाकिस्तान के सैनिकों को मार भगाना सेना के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी, लेकिन हौसला ना हारते हुए सेना ने दुश्मनों का डट कर सामना किया।

Leave a Reply