कराची में सड़कों पर उतरे सुन्नी, बोले- शिया काफिर हैं, इन्हें जान से मार देंगे

इस्लामाबाद: कराची शहर में तहरीक-ए-लबाइक पाकिस्तान और अहल-ए-सुन्नत वल जमात ने अल्पसंख्यक शिया समुदाय के खिलाफ रैलियां निकालीं, जिसमें लोगों ने शिया समुदाय के खिलाफ ‘शिया काफिर हैं’ जैसे नारे लगाए। इतना ही नहीं, उन्हें मारने की धमकी देने वाले नारे भी लगाए गए, साथ ही उन्होंने मुहर्रम के जुलूस पर बैन लगाने की भी मांग की।

बता दें कि पाकिस्तान में शिया समुदाय की आबादी 20 फीसदी है। 20वीं सदी के मध्य से शिया समुदाय के लोग सुन्नी चरमपंथी समूहों अहले-सुन्नत वल जमात, लश्कर-ए-जंघवी, सिपह-ए-सहावा पाकिस्तान के हमलों का निशाना बन रहे हैं। ये सभी संगठन ईशनिंदा को लेकर शिया समुदाय के लोगों को निशाना बनाते रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान में पिछले पांच सालों में शिया मुसलमानों के खिलाफ हिंसा काफी बढ़ गई है। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में शिया मुसलमानों की हत्या कर दी गई। हत्या करने के बाद हत्यारे खून से ही शियाओं के घर के बाहर ”शिया काफिर हैं” भी लिखते हैं। इसके अलावा कई शिया समुदाय के युवा, महिलाएं अभी लापता हैं।

Leave a Reply