मन की बात में बोले प्रधानमंत्री मोदी, कृषि कानून से किसानों को उनके अधिकार मिले

नई दिल्ली: देश के कई हिस्सों में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि,काफी विचार विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरूप दिया। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बंधन समाप्त हुए हैं। बल्कि उन्हें नये अधिकार भी मिले हैं, नये अवसर भी मिले हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 71वीं बार मन की बात करते हुए यह बातें कहीं। मोदी का यह मन की बात 2.0 का 18वां संस्करण रहा । इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अलग-अलग मुद्दों पर अपनी बात रखते हैं और देश की जनता से रूबरू होते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काफी विचार-विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरुप दिया है। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बंधन समाप्त हुए हैं, बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं और नए अवसर मिले हैं। मोदी ने कहा कि कानून में एक और बहुत बड़ी बात है, इस कानून में ये प्रावधान किया गया है कि क्षेत्र के एसडीएम को एक महीने के भीतर ही किसान की शिकायत का निपटारा करना होगा। मोदी ने कहा, अब जब ऐसे कानून की ताकत हमारे किसान भाई के पास थी तो उनकी समस्या का समाधान तो होना ही था, उन्होंने शिकायत की और चंद ही दिन में उनका बकाया चुका दिया गया।

 

Leave a Reply